जल्या ना करो Jalya Na Karo Song Lyrics in Hindi-Bintu Pabra

जल्या ना करो Jalya Na Karo Song Lyrics In Hindi-Bintu Pabra is the latest Haryanvi song sung by Bintu Pabra fro the Album 77. The Lyrics of this song are written by KP Kundu and Bintu Pabra while the music of this song is composed by Bamboo Beats. The video is directed by Ricky Rapria and Shekhar Salaria. The song is released under the banner of Nav Haryanvi.

जल्या ना करो Jalya Na Karo Song Lyrics Details-

SongJalya Na Karo
SingerBintu Pabra
LyricsKP Kundu and Bintu Pabra
MusicBamboo Beats
label Nav Haryanvi

जल्या ना करो Jalya Na Karo Song Lyrics –

ना जल्या करो भितर ते
काले हो जाएंगे
तत्ता मत खाया करो
चले हो जाएंगे

छोडो बहूत घने
मिलेंगे रे रोल खाने आले
टोल बैरियां के फिरे
मुंह पे तोल खाने आले

जो मुं पे भाई भाई करें
पिठ पे बुराई
बहुत मिले फ्री आले
कढ़ी चावल खां आले

हीरेयन तराशे होए
कोयले अली खान के
जेब ते गरीब परी
धनी आ जुबान के

दुनिया के शामी
जो से बने दानवीर
खा गए ताऊ आलि
छोरियां के पैसे कन्यादान के

मार के थापेड़े मुंह पे
१२ सी भजा देया
फिर चाह पानी पीने का
रिवाज़ साई अलग

बलदान की जोड़ी गेलिया
तार के ने फोटो
फेसबुक पे लगान का
रिवाज से अलग

१६०० भी पाडी होई
सुन के बार मन्ने
माँ बापू ते नियारा कडे
कार्य कोनी प्यार मन्ने

घाना गेलिया मारी होयिक
फलियां पे चोट सुन्नी
टाटा आले लोहे ते भी
दिया से आकार मन्ने

सुक्के काडे उद्दे नि
पन्ने ये बधाई के
खमखा बनावे ना
पहाड़ वड्डे राय के

विघन मचाए द हानो
गंडे द हलाय
देख पानीपत जाके अवसेशी
तू लादाई के

डोगल विचारन आले
कम पानी मारन आले
पूरा कदे सालें का
मुकाम हुंडा निस

बोले जो से झूठ
पहलवान मार जया करते ऐस
आज कल साले के
ज़ुखम होंडा नाइस

आवे मन्ने खेतान के
ठिकानेयन में स्व
हां बब्बू वाले जमा
देसी भाने में स्वद

के होया लोग आज कल
हो गए डिजिटल
आवे दादा मुंशी राम आले
गाने में स्व

हो कच्चे हैं जी घर
कच्ची बात ना कर
दिमाग कोनिया यारियां में
लाया दिल से

यार अली बहन बनी बाण अपनी
मान वड्डे का करे
और करे चिल साईं

लेवान टूटा फूटा लिखी
सीक दीवान मेरे भाई
अरे झूठी कदे किस ने
सलामी ना करो

मेहनात रे थोडी बहूती
ज़्यादा कर लियो
पर कदे किस साले किस
गुलामी ना करो

हो अच्छी नीत लेयवेगी
उम्मेदन के सावेरे
फेर मजीलन की गेल लिए

ले रे केपी बिंटू गमदु
महौल के नज़र
महरे पाबरे किनले में
ये डेरे पावेंज

मेरे कटे फटते हाथ देखे
करय मैट न्यायाधीश मन्ने
हॉल साईं चले बदमाशी नी करि

कांधा कांधे ते मिला के
करेया सबका सहयोग मन्ने
कदे किस महदे की रे
हसी नई कारी

You May Also Like-

Written By-KP Kundu and Bintu Pabra

You may also like...

Leave a Reply

%d bloggers like this: